फर्जी पॉवर ऑफ अटॉर्नी बनाकर 1700 लोगों को बेच दी जमीन

गृह निर्माण सोसायटियों की जांच के दौरान एक बड़ा खुलासा हुआ है। ताजा मामला तिलक हाउसिंग सोसायटी के पदाधिकारियों का है। इसमें फर्जी तरीके से जमीन बेचकर 1700 लोगों के साथ धोखाधड़ी की गई है। शुक्रवार को इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब कोहेफिजा थाने में इस सोसायटी के 14 पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। जानकारी के अनुसार तिलक हाउसिंग सोसायटी के 14 पदाधिकारियों ने फर्जी पॉवर ऑफ अटॉर्नी बनाकर पांच किसानों की अरबों रुपए की 93.47 एकड़ जमीन की फर्जी रजिस्ट्रियां करा लीं। यह जमीन सिंगारचोली क्षेत्र में है। इनमें से अधिकतर रजिस्ट्रियां व पॉवर ऑफ अटॉर्नी का रिकॉर्ड तक पंजीयन विभाग में नहीं है। यही नहीं उन्होंने समिति के 1700 से अधिक सदस्यों को प्लॉट काटकर बेच दिए और रजिस्ट्रियां भी करा दीं।

मामला सामने आने के बाद कोहेफिजा पुलिस ने शुक्रवार को सोसायटी के 14 पदाधिकारियों पर धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। इनमें से 5 आरोपित मोहम्मद शरीफ खान, शफीक मोहम्मद, कर्नल भूपेंद्र सिंह, रंजीत सिंह और रफीक मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया है। बचे हुए 9 आरोपित पदाधिकारियों की तलाश जारी है। इधर पुलिस ने लालघाटी स्थित मुंशी प्रेमचंद परिसर स्थित तिलक सोसायटी के कार्यालय को सील कर दिया है।

15 एकड़ जमीन का किया अनुबंध, हड़प ली 93 एकड़ जमीन

कोहेफिजा थाना टीआई सुधीर अरजरिया के अनुसार शाहजहांनाबाद निवासी शिकायतकर्ता मोहम्मद युसूफ, मोहम्मद अनवर व अन्य सदस्यों ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि सभी सदस्यों के नाम पर लालघाटी के सिंगारचोली में 93.47 एकड़ जमीन थी। इसमें से 54.13 एकड़ जमीन आवासीय तथा 39.34 एकड़ जमीन एग्रीकल्चर थी। 1986 में मोहम्मद याकूब व अन्य सदस्यों ने तिलक सोसायटी के तत्कालीन अध्यक्ष कर्नल भूपेंद्र सिंह के साथ 15.45 एकड़ जमीन का अनुबंध किया था, लेकिन भूपेंद्र सिंह ने अन्य 13 सदस्यों के साथ मिलकर पूरी 93.47 एकड़ जमीन फर्जी पॉवर ऑफ अटॉर्नी और फर्जी रजिस्ट्रियां बनाकर हड़प ली।

इन 14 भू-माफियाओं पर दर्ज हुई एफआईआर

मोहम्मद शरीफ खान, शफीक मोहम्मद, कर्नल भूपेंद्र सिंह, मोहम्मद शकूर खान, असगर अली, जरीना बेगम, मीना उर्फ मीनू चोखर, रंजीत सिंह, सुशीला सिंह, रीता खड़ायत, रश्मि खड़ायत, निशी खडायत, रफीक मोहम्मद व शहजाद मोहम्मद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *