ICC क्रिकेट कमेटी की सिफारिश, अब थूक नहीं इस चीज से गेंद को चमका पाएंगे खिलाड़ी

ICC क्रिकेट कमेटी ने coronavirus महामारी के मद्देनजर सोमवार को बड़ा फैसला लेते हुए अब क्रिकेट में गेंद चमकाने के लिए थूक के उपयोग पर पाबंदी लगा दी है। Anil Kumble की अध्यक्षता वाली इस कमेटी ने खिलाड़ियों को पसीने से गेंद को चमकाने की अनुमति प्रदान की है।

आईसीसी क्रिकेट कमेटी ने इसके अलावा इंटरनेशनल मैचों में स्थानीय अंपायरों और मैच रैफरी को नियुक्त करने की सिफारिश भी की। कमेटी का यह मानना है कि अंपायर निर्णय समीक्षा प्रणाली (DRS) की वजह से ज्यादा सही फैसले तो हो ही जाते हैं। इससे यात्राओं पर भी रोक लगेगी।

आईसीसी क्रिकेट कमेटी चेयरमैन अनिल कुंबले ने कहा, हम बहुत ही संकट के वक्त में जी रहे हैं। क्रिकेट को दोबारा सुरक्षित तरीके से शुरू करने की दिशा में कदम उठाने के लिए हमारी कमेटी ने ये अंतरिम सिफारिशें की हैं। हमारा प्रयास क्रिकेट के रोमांच को बनाए रखने के साथ ही इससे जुड़े सभी लोगों को सुरक्षित रखना भी है।

पसीने से गेंद चमकाई जा सकेगी:

आईसीसी मेडिकल एडवाइजरी कमेटी के डॉक्टर पीटर हारकोर्ट ने बताया कि गेंद पर थूक के उपयोग से कोरोना वायरस फैल सकता है, इसके मद्देनजर कमेटी ने इसे बैन करने की सिफारिश की। मेडिकल कमेटी ने सलाह दी कि पसीने की वजह से वायरस के फैलने का खतरा नहीं के बराबर है इसलिए इसकी अनुमति दी गई है।

इंटरनेशनल मैचों में स्थानीय अंपायर:

इंटरनेशनल मैचों में 1994 से 2001 तक एक स्थानीय और एक तटस्थ अंपायर हुआ करता था लेकिन साल 2002 से इंटरनेशनल मैचों में में दोनों तटस्थ अंपायर नियुक्त किए जाने लगे थे। कमेटी ने वर्तमान समय में इंटरनेशनल यात्रा पाबंदियों और क्वारेंटाइन की समस्या के मद्देनजर कुछ समय तक स्थानीय अंपायरों को नियुक्त करने की सिफारिश की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *