आखिर कैसे तैयार होगा 12वीं का परीक्षा परिणाम, 18 को आएगी रिपोर्ट

 कोरोना संकट के कारण केंद्र सरकार ने तय किया है कि इस वर्ष सीबीएसई 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं आयोजित नहीं होगी। ऐसे में हर किसी के मन में यह सवाल है कि आखिर 12वीं के छात्र-छात्राओं का परीक्षा परिणाम किस आधार पर तैयार किया जाएगा। मॉर्किंग पॉलिसी को लेकर इन दिनों हर छात्र के मन में भी जिज्ञासा है। वैसे अभी तक केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की ओर से कक्षा 12 के छात्रों के लिए मार्किंग पॉलिसी तय नहीं की गई है। बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि CBSE बोर्ड 12वीं के छात्रों को मार्किंग के स्थान पर ग्रेड देने पर भी विचार किया जा सकता है, हालांकि अभी तक इस बारे में कोई अंतिम फैसला नहीं लिया गया है।

ये बोले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव

 

 

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव अनुराग त्रिपाठी का कहना है कि मूल्यांकन फॉर्मूला दो हफ्तों में तय कर लिया जाएगा। गौरतलब है कि 4 जून को CBSE ने 13 सदस्यीय एक समिति का गठन किया था, जो इस संबंध में पॉलिसी तय करेगा। 18 जून तक समिति इस बारे में अपनी रिपोर्ट पेश कर देगी। इसी रिपोर्ट के आधार पर फॉर्मूला तय किया जाएगा, जिसके आधार पर 12वीं के स्टूडेंट्स के परीक्षा परिणाम तय किए जाएंगे।

गौरतलब है कि कोविड-19 महामारी के कारण बारहवीं कक्षा की सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गई थी। सूत्रों के मुताबिक समिति के अधिकतर सदस्य कक्षा 10 और 11 में प्राप्त अंकों को महत्व देने और 12वीं के प्री बोर्ड तथा आंतरिक परीक्षाओं को आधार बनाने के पक्ष में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं कक्षा के लिए निष्पक्ष मानदंड तय करने के लिए 3 जून को केंद्र सरकार को 2 हफ्ते का समय दिया था। CBSE ने इसके लिए 4 जून को 13 सदस्यीय समिति का गठन किया था और रिपोर्ट सौंपने के लिए 10 दिन का समय दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *