खत्म होगा किसानों का धरना, करनाल में प्रशासन से बनी सहमति, जानिए बड़ी बातें

हरियाणा के करनाल में किसानों का धरना प्रदर्शन खत्म होने से संकेत मिले हैं। शनिवार को किसान नेता और करनाल प्रशासन की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई। किसानों की ओर से बताया गया कि प्रशासन ने उनकी प्रमुख मांगे मान ली हैं, जिसके मुताबिक लाठीचार्ज के आरोपी SDM आयुष सिन्हा को छुट्टी पर भेज दिया गया है, पूरे मामले की जांच रिटायर्ड जज से करवाई जाएगी, मृत किसानों के परिजन को नौकरी दी जाएगी। माना जा रहा है कि आज शाम तक धरना खत्म हो जाएगा। मृत किसान के परिवार से दो लोगों को सरकारी नौकरी दी जाएगी। हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज को 1 महीने में रिपोर्ट सौंपना होगी।

इससे पहले जब संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की खबर आई, तभी साफ हो गया था कि दोनों पक्षों के बीच सहमति बन गई है। किसान पिछले दिनों लाठी चार्ज का आदेश देने वाले SDM आयुष सिन्हा को संस्पेंड करने की मांग कर रहे हैं। दोनों पक्षों के बीच सबसे बड़ा पेंच इसी को लेकर फंसा था। प्रशासन इस बात पर राजी हो गया है कि जांच रिपोर्ट आने के बाद SDM आयुष सिन्हा के खिलाफ जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

शुक्रवार को हुई थी तीसरे दौर की वार्ता

किसानों और प्रशासन के बीच शुक्रवार को तीसरे दौर की वार्ता हुई थी। इसके लिए चंडीगढ़ से विशेष रूप से हरियाणा सरकार ने सिंचाई विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह को करनाल आए थे। वार्ता में किसान नेताओं की 12 सदस्यीय कमेटी ने हिस्सा लिया था, जिसमें गुरनाम सिंह चढ़ूनी भी शामिल थे। इस बीच, डीसी निशांत कुमार ने भी कहा था कि किसानों के लिए बातचीत के लिए दरवाजे खुले हैं। किसानों का धरना फिलहाल शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है। अपील है कि अपना विरोध शांतिपूर्ण तरीके से चलाएं।

इसी किसान धरना प्रदर्शन के कारण करनाल में इंटरनेट और मोबाइल सेवा ठप्प रही थी। तीन दिन से इंटरनेट सेवा बंद थी, जिसे शुक्रवार सुबह बहाल किया गया था।