डॉलर के मुकाबले ऑल-टाइम लो पर रुपया, 1 US Dollar = Rs. 77

युद्ध भले ही रूस और यूक्रेन के बीच चल रहा हो, लेकिन धमाकों की गूंज पूरी दुनिया, यह तक कि भारत तक सुनाई दे रही है। खबर यह है कि कच्चा तेल 14 साल में पहली बार 130 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया है। इसका असर यह हुआ कि सोमवार को रुपया डॉलर के मुकाबले अपने अब तक सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया। रुपया सोमवार को लगभग 77 डॉलर प्रति डॉलर के निचले स्तर पर जा पहुंचा है। डॉलर के मुकाबले रुपये में ये सबसे बड़ी गिरावट है। वहीं, पेट्रोल और डीजल का महंगा होना तय माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव खत्म होते ही पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाए जा सकते हैं। यह बढ़ोतरी 12 रुपए प्रति लीटर तक हो सकती है। ऐसा हुआ तो यह आम आदमी की जेब पर बड़ा बोझ होगा।

वैश्विक बाजारों में ईरानी कच्चे तेल की संभावित वापसी में देरी के कारण तेल की कीमतें 2008 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गईं। संयुक्त राज्य और यूरोपीय सहयोगी रूसी तेल के आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं। इससे भी क्रूड महंगा हो रहा है।